Source: 
News4Nation
Author: 
Date: 
18.06.2022
City: 
Patna

भाजपा और कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है. दोनों दलों की आमदनी में जोरदार कमी आई है. खासकर भाजपा की आमदनी करीब 80 प्रतिशत कम हो गई है. इसी तरह कांग्रेस को भी आमदनी के मामले में बड़ा झटका लगा है और पार्टी की आमदनी में 20 प्रतिशत से ज्यादा की कमी आई है. देश की आठ राष्ट्रीय पार्टीयों की वित्त वर्ष 2020-21 में कुल आमदनी 1373.783 करोड़ रुपए रही. राजनीतिक दलों के वित्तीय अनुशासन एवं अन्य गतिविधियों पर नजर रखने वाली गैर सरकारी संस्था एशोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफोर्म्स (एडीआर) द्वारा जारी एक रिपोर्ट में कहा गया है कि आठों राजनीतिक दलों को हुई कुल आमदनी का 55 फीसदी अकेले भाजपा को हुआ है. भाजपा, कांग्रेस, बसपा, रांकपा, सीपीआई, सीपीएम, तृणमूल कांग्रेस और राष्ट्रीय पीपुल पार्टी की आमदनी को एडीआर ने अपनी रिपोर्ट में दर्शाया है. इन आठ दलों को निर्वाचन आयोग से राष्ट्रीय दल की मान्यता प्राप्त है. 

निर्वाचन आयोग को राष्ट्रीय दलों की ओर से सौंपी गई वित्त वर्ष के लेनदेन की जानकारी में भाजपा की कुल आमदनी 752.337 करोड रुपये हुई. यह आठों राष्ट्रीय दलों को हुई कुल आमदनी 1373.783 करोड़ रुपए की तुलना में 54.764 करोड़ रुपए है. हालांकि अगर भाजपा को वित्त वर्ष 2019-20 में हुई आमदनी 3,623.28 करोड़ रुपए से तुलना करें तो वित्त वर्ष 2020-21 में पार्टी की आमदनी 79.24 फीसदी कम गई.

वहीं आमदनी के मामले में कांग्रेस दूसरी सबसे बड़ी पार्टी रही. कांग्रेस को वित्त वर्ष 2020-21 के दौरान 285.765 करोड़ रुपए की आमदनी हुई जो आठों दलों की कुल आमदनी का 20.801 फीसदी है. वित्त वर्ष 2019-20 के दौरान कांग्रेस की आय 682.21 करोड रुपये थी जो गत वित्त वर्ष में 58.11 प्रतिशत घटकर 285.765 करोड रुपये हो गई है.

वित्त वर्ष 2019-20 की तुलना वित्त वर्ष 2020-21 में तृणमूल, रांकपा, बसपा, सीपीआई और एनपीपी की आमदनी क्रमशः 48.20 फीसदी, 59.19 फीसदी, 67.65 फीसदी और 9.94 फीसदी कम रही. 

© Association for Democratic Reforms
Privacy And Terms Of Use
Donation Payment Method